Russian And Chinese Fighter Jets Entered South Korea’s Airspace, Army Alerted Due To Threat

0

South Korea Airspace: दक्षिण कोरिया, चीन और रूस के बीच आपसी तनाव बढ़ता दिख रहा है. दक्षिण कोरिया के हवाई रक्षा क्षेत्र में 2 चीन और 6 रूस के एयरक्राफ्ट घुस गए हैं.  तनाव को देखते हुए दक्षिण कोरिया की सेना ने अपने लड़ाकू विमानों को तैनात कर दिया है, जिसे देख माना जा है कि आने वाले दिनों में दक्षिण कोरिया का चीन और रूस के बीच तनाव और बढ़ेगा.

योनहाप समाचार एजेंसी के अनुसार, दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने बताया कि 2 चीनी और 6 रूसी लड़ाकू विमानों ने बिना किसी सूचना के उनके हवाई सीमा क्षेत्र में घुस गए. उन्होंने दावा करते हुए कहा कि चीन का H-6 बॉम्बर आज सुबह करीब 5 बजकर 50 मिनट पर दक्षिणी और उत्तरपूर्वी तटों से हवाई रक्षा क्षेत्र में घुसे और बाहर निकल गए. कुछ घंटे बाद ये विमान जापान सागर से हवाई रक्षा क्षेत्र में फिर से दाखिल हुए, जिसे कोरिया में पूर्वी सागर के रूप में जाना जाता है. उन्होंने दावा किया कि इनमें TU-95 बॉम्बर और SU-35 फाइटर जेट सहित रूसी युद्धक विमान भी शामिल थे.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि चीनी और रूसी विमानों के प्रवेश करने से पहले ही हमारी सेना ने वायु सेना के लड़ाकू विमानों को तैनात कर दिया था. हालांकि समय रहते ही चीन और रुस के विमानों ने हमारा क्षेत्र छोड़ दिया. 

उत्तर कोरिया और चीन के बीच बढ़ रही है दोस्ती 

News Reels

बता दें कि उधर चीन और उत्तर कोरिया के संबंधों में मिठास बढ़ती दिख रही है. हाल ही में चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने उत्तर कोरिया के साथ मिलकर काम करने की बात कही. चीन के राष्ट्रपति ने उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन को एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने कहा था कि चीन नॉर्थ कोरिया के साथ मिलकर काम करने को तैयार है. इसके साथ ही खबर आयी थी कि उत्तर कोरिया के तानाशाह किम जोंग उन की तरफ से लगातार मिसाइलें दक्षिण कोरिया के तट पर दागी जा रही हैं और अब रूस-चीन के विमानों की घुसने की खबर दक्षिण कोरिया को चिंता में डाल रही हैं.

G20 Summit: ऋषि सुनक, जॉर्जिया मेलोनी और ओलाफ शोल्ज से यूं मिले पीएम मोदी, देखें तस्वीरें

FOLLOW US ON GOOGLE NEWS

 

Read original article here

Denial of responsibility! Pedfire is an automatic aggregator of the all world’s media. In each content, the hyperlink to the primary source is specified. All trademarks belong to their rightful owners, all materials to their authors. If you are the owner of the content and do not want us to publish your materials, please contact us by email – [email protected]. The content will be deleted within 24 hours.

Leave a comment